झन भूंजौ छानही मं चढ़के होरा!

Posted On:- 2022-07-27




परमानंद वर्मा

जइसन कभू कोनो सोचे नइ रिहिस हे तइसन होगे, धीरे-धीरे होवत हे अउ कहूं तो निरमामूल होगे। काला का कहिबे, कोन ला का दोस देबे? जउन होनी हे तउन तो होके रहिथे ओहर ककरो रोके नइ रुकय? आंसू आथे, जइसन कभू देखे नइ रहिबे तइसन हो जथे तब। हाथ हा चपकागे पथरा तरी। न निकालत बनत हे अउ न यती-ओती अटास के निकालत बनत हे। बस वइसने समे ह अपने काम ला करत जात हे, चुपचाप देखत रहिबे उही मं भलई हे। जादा ऐती-तेती इगिड़-तिगिड़ करबे तब भोसाय के सिवाय कांही हासिल नइ आना हे। 

वाह रे समे, वाह रे जमाना, तैं जउन कर ले सब सही हे, तोला सब फभ जही। तैं समरथ हस, अउ कोनो दूसर करही तेकर बर तोर आंखी फूटे ले धर लेथे। अनदेखना हस, दूसरे के करे धरे ला भावस नहीं। अतेक अंजलइत, अतेक अतियाचार, अउ अनिवाय ला भला कोन सइही, फेर सब सहत हे। देखत हे, मुंह चुप हे, तारा ठेंस ले हे। का करबे, जब समे साथ नइ दय, तब ओ समे चुप रेहे मं भलई हे। झूठ, फरेब के जमाना हे। देख रे आंखी, सुन रे कान, तइसे कस ये जमाना हे। कोनो मारत हे, तब ओला मार खाते राहन दे, कोनो ककरो घर ला लेसत हे तब लेसन दे, ककरो बेटी, बहू, गोसइन ला अपहरण करके लेगत हे तब लेगन दे, ओहर कतको गोहार पारय, बचा लौ भइया, बचा लौ दाई-ददा मोर फेर कोनो कनमटक झन दौ, काबर जउन भगा के लेगत हे, तेकर हाथ मं तलवार हे, बंदूक हे। दया-मया मरे के जमाना नइहे, कहूं सोग मरबे, ओकर कोती पांव बढ़ाबे, तब दूसर के लफडा मं परे मं घाटा के सिवा कुछु हासिल होवइया नइहे, जउन दया मरे हे, बचाय बर, तउने मनखे भोंगा हे तलवार मं, टीप दे हे बंदू में। 

बहुत खराब समे आगे हे। अनदेखनी के जमाना हे। कोनो देख नइ सकत हे ककरो घर दुआर, खेत-खार, धंधा-पानी अउ सत्ता ला? अच्छा खासा कारोबर चलत हे, घर-दुआर चलत हे, परिवार मं सुख-शांति हे तब एला अनदेखना मन देख नइ सकय। टंगरी मार के गिराय के उदीम करत हे। अरे छोटे मनखे, गरीब घर-परिवार मन के बात ला जान दे, राजनीति मं घला अइसने अनदेखनी के रोग के महामारी लग गेहे। मोरे राज चलय, मही पूरा देश भर मं राज करौं, महीं खांव पियौं, दल, पारटी, परिवार, बेटा-बेटी, बहू छकल-बकल करयं। अउ दूसर मन कटोरा धर के भीख मांगें बर हमर दुआरी मं आवत राहैं। मुंह मं राम बगल मं छूरी कस एकर मन राजनीति चलत हे। काला का कहिबे, कहिबे तब अपजस हे, चिन्हऊ मं आ जबे। फलाना हा कइसे काहत रिहिसे, दइसे-दइसे ओकर सोच-विचार हे। एकर ले सावधान रेहे के जरूरत हे। 

अभी समे ओकर साथ देवत हे तब उचकत हे मेचका बरोबर, बेंदरा बरोबर। जानत सबो ला हे ओहर, काबर के दूरदीन ले उहू हा गुजरे हे फेर अपन दिन ला भुलागे, कइसन दिन देखे के बाद आज अइसन सुख के दिन देखे ले मिले हे। दूध के जरे छाछ ला फूंक-पूंक के पीथे, फेर लगथे अपन ह अपन ओ दिन ला भुलागे, अउ आज हमीच मन हन काहत हे। सत्ता, सुंदरी, धन अउ पानी कभू एक ठउर के रमइया नोहय, एमन चंचल बानी के होथे। कब फिसल जही, तेकर कांही भरोसा नइ राहय, अइसन मन ऊपर भूल के भरोसा नइ करना चाही। फेर का करबे अहंकार हा अंधरा बना देथे। मैं का करथौं, सही हे या गलत ओ सब सोचे-समझे के सक्ती ला हर लेथे अउ अइसे हर्रस ले मुड़भसरा गिर जथे जइसन कभू सोचे नइ रहिबे। तब धुर्रा चांटे के सिवाय कांही हासील नइ आवय। ये धुर्रा ला घला कभू-कभू अइसन अहंकार हो जथे तब आंधी-तूफान आथे तब उड़ा के जब आगास मं जब हाथ-पांव मारथे तब सोचथे- मोर ले बड़े भाग्यशाली ये दुनिया मं कोनो नइहे, मही ब्रम्हाण्ड के बादशाह हौं, परमात्मा हौं। अउ जब आंधी तूफान थिराथे तब जिहें के तिहें भुइयां मं गिर पाथे, तब सोचथे- हमर तख्ता पलट कइसे होगे, कोन सत्ता ला छीन लिस? तब ओला शंका होथे के एहर जरूर कोनो राजनीतिक दल वाले मन के चाल हे। अउ आजकल ये देश मं अइसन उठापटक के खेल कोन मन करत हे तेला समझत ओला धुर्रा ला देरी नइ लगिस। गजब बखानिस, गारी-गुफ्तार लगइस, निंदा करिस, जइसे नारद जी हा भगवान बिसनू ला पारबती के महतारी हा सप्तरिषी मन के करे रिहिसे। 

समे बहुत बलवान होथे, ओकर आघू मं ककरो चाल नइ चलय। ओ चाहे तो रंक ला राजा बना दै अउ चाहे तो राजा ला रंक। फेर समे ला घलो अतेक अहंकार के नशा मं चूर नइ हो जाना चाही। नियाव, अनियाव, सही-गलत ला चतवार के चलना चाही। नइ अइसन करही तब कोनो ओला मान अउ इज्जत नइ देही। अइसे झन करे के अहंकार में ओहर कोनो काहय- कुकुर ला ददा काह। काबर कइही ददा, फेर आतंक के जमाना हे, का नइ काहत, करे बर मजबूर होवत हे सब। अइसन दिन, खेल जादा नइ चलय, चलत तक चलही। आखिर एक दिन धुरा ला पटक दिही तौंन दिन का होही- दत्त-निपोरी, दंत खिसोरी। इही पाके छानही मं चढ़के होरा नइ भुंजना चाही।



Related News
thumb

कृष्ण कुंज : पर्यावरणीय विरासत और सांस्कृतिक मूल्यों को सहेजने की द...

विकास की दौड़ में छत्तीसगढ़ के नगरीय क्षेत्र में पेड़ पौधों की जहां कमी होते जा रही है, वहीं शहर और कस्बे कॉन्क्रीट के जंगल बनते जा रहे है। शहरों में ...


thumb

पोरा, चुकिया अउ बइला

सावन मास, असाढ़ के बाद कदम क्या रखता है छत्तीसगढ़ की धरती झूम उठती है,मचल उठती है। गुनगुनाने और पैर नाचने व थिरकने के लिये बेताब हो उठता है। कई पर्वो...


thumb

असीम संभावनाओं के साथ पर्यटकों को लुभा रहा है छत्तीसगढ़ का नैसर्गिक...

पर्यटन की दृष्टि से छत्तीसगढ़ अत्यंत समृद्ध राज्य है। छत्तीसगढ़ की धरती वन और खनिज संपदा से भरपूर तो है ही इसके साथ ही यहां की कला, संस्कृति और पर्यट...


thumb

कभी-कभार : अटलजी की यादें और उनका चुनाव पूर्व सहीं अनुमान...

अटलजी उस समय विपक्ष के बड़े नेता थे वे(छत्तीसगढ़ उस समय मप्र का हिस्सा) 1984 में लोस चुनाव के दौरान रायपुर प्रवास पर आए थे, उस समय इंदिरा गाँधी की हत...


thumb

बात बेबाक : आजादी के पर्व स्वतंत्रता दिवस की अशेष मंगल कामनाएं

आजादी के अमृत महोत्सव के जोश और जुनून के बीच स्वतंत्रता दिवस अपनी पूरी शानोशौकत से मनाया गया। शान से लहराते तिरंगे के नीचे समोसा , आलुगुण्डा व लड्ड़...


thumb

स्वाधीनता का अमृत महोत्सव : घर-घर तिरंगा से बढ़ेगी देशप्रेम की भावना

इस वर्ष हम भारत की स्वाधीनता की 75वीं वर्षगांठ को ‘‘आजादी का अमृत महोत्सव’’ के रूप में मना रहे हैं। यह स्वाधीनता के लिए हमें जिन कठिनाईयों और मुश्क...