शिशु के लिये सर्वोत्तम आहार है, मां का दूध

Posted On:- 2022-07-31




आज से मनाया जाएगा स्तनपान सप्ताह

जगदलपुर (वीएनएस)।  बच्चों के शारीरिक एवं मानसिक विकास तथा नवजात शिशु मृत्यु‎ दर में कमी लाने एवं कुपोषण से ‎बचाने में स्तनपान का विशेष महत्व होता है। इस जानकारी को ‎जनसाधारण तक पहुंचाने के‎ उद्देश्य से प्रत्येक वर्ष   विश्व ‎स्तनपान सप्ताहश् मनाया जाता है। प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी जिले में 1‎ से 7 अगस्त तक स्पष्ट अप फॉर ब्रेस्टफीडिंग, एजुकेट एंड सपोर्ट यानी स्तनपान शिक्षा और सहायता के लिए कदम बढ़ाएंष् की थीम पर विश्व स्तनपान सप्ताह मनाया जाएगा।

इस संबंध में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. आर.के.चतुर्वेदी ने बतायाः “विश्व स्तनपान सप्ताह में महिलाओं को स्तनपान कराने के लिए प्रेरित किया जाएगा। साथ ही महिलाओं में स्तनपान संबंधी भ्रांतियों को दूर किया जाएगा। शिशु के स्तनपान अधिकार के प्रति जागरूकता प्रदान करना भी इस सप्ताह को मनाने का उद्देश्य है। बच्चे को 6 महीने तक मां का दूध जरूर पिलाना चाहिए। मां का दूध शिशु के लिए सर्वोत्तम आहार है। प्रसव के तुरंत बाद एक घंटे के भीतर शिशु को मां के स्तनपान से मिलने वाला गाढ़ा दूध शिशु के स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभदायक होता है, इसीलिए शिशु को स्तनपान अवश्य कराना चाहिए। मां के दूध से बच्चे को रोगों से लड़ने की शक्ति मिलती है। इसीलिए 6 महीने तक शिशु को केवल स्तनपान ही कराना चाहिए। इसके बाद स्तनपान कराने के साथ-साथ ऊपरी पौष्टिक पूरक आहार भी देना चाहिए।”

उन्होंने आगे बताया मां के दूध में बच्चों के लिए प्रोटीन, वसा, कैलोरी ,लैक्टोज, विटामिन, पानी और एंजाइम पर्याप्त मात्रा में होते हैं। मां का दूध पचने में त्वरित और आसान होता है। यह बच्चे को सक्रमण से सुरक्षित करता है। बच्चों के मानसिक एवं शारीरिक विकास हेतु स्तनपान अत्यंत महत्वपूर्ण है जिसका शिशु एवं बाल स्वास्थ्य पर अहम प्रभाव पड़ता है। 

1 घंटे के अंदर स्तनपान की दर बस्तर में 42 प्रतिशत

एनएफएचएस -5 सर्वे में भी छत्तीसगढ़ में 1 घंटे के अंदर स्तनपान की दर शहरी क्षेत्र में 30.0 प्रतिशत है और ग्रामीण क्षेत्रों में स्तनपान की दर 32.8 है। वहीँ प्रदेश में स्तनपान की दर कुल 32.2 प्रतिशत है जबकि बस्तर में 42 प्रतिशत हैद्य 

स्तनपान को बढ़ावा देने के लिए मां कार्यक्रम- भारत सरकार ने वर्ष 2016 में स्तनपान को बढ़ावा देने के लिए (MAA- Mothers Absolute Affection) मां कार्यक्रम की शुरुआत की थी ।‘मां’ कार्यक्रम में सभी चिकित्सा इकाइयों को बेबी फ्रेंडली बनाने का प्रयास किया जा रहा है । इस कार्यक्रम के माध्यम से स्तनपान को सफल बनाने के लिए प्रशिक्षित स्वास्थ्य कर्मी नियमित रूप से मां और समुदाय के साथ संपर्क में रह रहे हैं ताकि गर्भवती महिला और जन्म के समय से 2 साल तक के बच्चों को नियमित रूप स्तनपान मिलता रहे।  स्वास्थ्य केंद्रों में होने वाले प्रसव में चिकित्सक स्टाफ नर्स और एएनएम सभी के द्वारा स्तनपान के लिए परामर्श दिया जा रहा है।




Related News
thumb

मुख्यमंत्री से अग्रवाल समाज दुर्ग के प्रतिनिधिमंडल ने की सौजन्य मुल...

मुख्यमंत्री से आज उनके निवास कार्यालय में अग्रवाल समाज दुर्ग के प्रतिनिधिमंडल ने सौजन्य मुलाकात की। प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री को समाज द्वारा आयो...


thumb

गौठान की महिलाएं बना रही फाईल-फोल्डर, कॉन्फ्रेंस-लेपटॉप बैग, पर्दा

इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय द्वारा रायपुर में 16 एवं 17 अगस्त को आयोजित देशभर के कृषि वैज्ञानिकों की कार्यशाला में केला तना रेशा से बना कान्फ्र...


thumb

मुख्यमंत्री शिक्षा गौरव अलंकरण : शिक्षा दूत, ज्ञान दीप और शिक्षाश्र...

मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुसार प्रतिवर्ष 5 सितम्बर को विकासखण्ड स्तर, जिला स्तर और संभाग स्तर पर ‘मुख्यमंत्री गौरव अलंकरण’ योजना के अंतर्गत शिक्षको...


thumb

कोरोना बुलेटिन : प्रदेश में 285 नए मामले, रायपुर से 28

स्वास्थ्य विभाग से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार 16 अगस्त की स्थिति में प्रदेश की पाॅजिटिविटी दर 2.91 प्रतिशत है। आज प्रदेश भर में हुए 9 हजार 791 सैंपलो...


thumb

साइबर अपराधों के प्रति सतर्क करने राजधानी पुलिस ने शुरू किया 'सुनो ...

आम नागरिकों और युवाओं को साइबर अपराधों के प्रति सतर्क करने रायपुर पुलिस ने 'सुनो रायपुर' जागरूकता अभियान की शुरुवात की। 7 दिन तक चलने वाला यह अभिया...


thumb

महिला आयोग की पहल पर बालोद पुलिस ने शिक्षक को हिरासत में लिया

राज्य महिला आयोग द्वारा 1 प्रकरण को स्वतः संज्ञान में लेते हुए एफआईआर दर्ज कर अपराधी को हिरासत में रखा गया है। बालोद जिले के एक स्कूल का था जिसमे आ...