ये बात हे के बारुद के गोला?

Posted On:- 2022-08-01




-परमानंद वर्मा

कैंची का गुण है, स्वभाव है... काटना, दो फाड़ कर देना, निर्दयतापूर्वक हत्या कर देना। भला-बुरा नहीं सोचती, इसका परिणाम क्या होगा? जो कर्तव्य था, वह कर दिया। लगभग विक्षिप्त व्यक्ति ही ऐसा ही कर बैठता है, कुछ का कुछ बोल जाता है और कुछ लोग सोची-समझी योजना के तहत बड़बोलेपन व अक्खड़ स्वभाव के कारण उनके मुख से ऐसी अनर्गल बातें निकल जाती है, यह जानते हुए भी कि इनका परिणाम ठीक नहीं निकलेगा, मलाल नहीं करते। भले ही कुरुक्षेत्र में महाभारत हो जाए, अथवा अयोध्या श्मशान घाट में तब्दील हो जाए, क्या फर्क पड़ता है? लोगों का मुंह आज इतना खतरनाक हो गया है वह बारूद उगलने लगा है। बिना ब्रेक के यदि गाड़ी चलेगी तो दुर्घटनाएं तो होगी ही। इसलिए मुख पर संयम रूपी ब्रेक का होना जरूरी है। नीति शतक में यही तो कहा गया है- ''शौर्यस्य वाक्यसंयम:" अर्थात वीरता की आभूषण संयम है। कायर क्या खाक संयम का पालन करेंगे। इसलिए अनहोनी से बचने के लिए ''कम बोले, धीरे बोले और मीठे बोले" जैसे स्लोगन का प्रयोग किया जाना चाहिए।

अइसन मन के मुंह ला थुथर देना चाही, मुरकेट देना चाही, सुरर के जीभ ल फेंक देना चाही घुरवा मं कचरा सही, अइठ देना चाही, दुबारा बक्का झन खुलय। गजब अजलइत करत हें, आनी-बानी जइसने पावत हे तइसने मुंह फरकावत हे, जना-मना लड़ई के मैदान मं खड़े हे, बइरी संग तलवार भांजत हे।

सबके घर मं, परिवार मं, समाज मं अउ देश मं आगी लगावत हे, जइसने पावत हे तइसने बोल-बोल के। ये मुंह ला कोन अइसे कतेक आजादी दे दे हे ते ककरो हित-अनहित घला नइ देखत हे। अतको नइ सोचत हें के आन-तान बोलिहौं तब ये बोली-बात के का असर होही। अतेक अकलमुंडा अउ अकलमुंडी नइ बन जाना चाही के ओकर बोली  तीर कस काम करय। बात, बोली अउ जुबान कुछु का, बात एक्चेच हे। ये दू तरह के होथे। उही एक बात गुरतुर होथे, मन ला सुकुन अउ शांति देथे, हिरदय मं परेम पैदा कर देथे, इहां तक देखे मं आथे के आंसू घला ढरक जथे अउ मुंह ले दूसर ढंग ले निकले बोली बात, जबान हा जहर घोरे कस लगथे।

रामायन, महाभारत म अइसन बोली के ठउका उदाहरण देखे ले मिलथे। का अइसे बात बोल दिस द्रौपदी, जेला सुन के दुर्योधन तिलमिलागे। ओ बात ओकर छाती मं तीर मारे असन अइसे घुसरगे जइसे हिरनी ला कोनो शिकारी निशाना साध के जमीन मं गिरा देथे, छटपटावत रहिथे, तड़पत बिन पानी के मछरी बरोबर। जहर खाय कस लगथे अइसने बोली, मर जतिस तइसे जीव हा तालाबेली करे ले धर लेथे। द्रौपदी सही जहर घोरे कस बात कैकेयी घला बोले रिहिसे। ओकर बोली ला सहे नइ सकिस राजा दशरथ अउ अपन परान ला तियाग दिस।

द्रौपदी के बोली कुरुक्षेत्र मं महाभारत करा दिस अउ कैकेयी के बोली राजा के परान ला हर लिस। पूरा अयोध्या वीरान होगे, सुनसान होगे,सन्नाटा पसरगे असमशान घाट असन। यहा का बोली, बात अउ जबान जेमा तलवार कस धार होथे, कैंची कस कच-कच चलथे। भगवान आंखी, कान, नाक, मुंह, हाथ अउ गोड़ देहे, एकर सेती नइ देहे के जाव संसार मं अजलइन करत रइहौ, घर-परिवार उजारिहौ, खून-खराबा करिहौ, इंसान ला इंसान नइ समझिहौ। चेतलग परानी हव, हित-अनहित सब ला समझत हौ, फेर काबर अइसन ढंग के जान-सुन के सब कोती अशांति फ़इलाथौ? मनखे हौ, इंसान हौ, तब थोकन इंसानियत अउ मानवता नांव के चीज तो थोकन होना चाही। काबर कुकुर मांस खाय बरोबर ककरो घर मं पथरा फेंकथौं, आगी लगाथौ। धरम, राजनीति, उद्योग धंधा, खेती-किसानी एमन तो कभू अनदेखनी नइ मरय एक दूसर बर, सब अपन-अपन रस्दा मं चलत रहिथे। कोनो मनखे ला आंय-बांय कहि देना, का जरूरत हे, कोनो ला अइसन बोले के? लगथे मनखे के रूप में कोनो राक्षस के रूप धर के अवतरे हौ ये धरती मं। नइते मानस जोनी मं जउन जनम धर के आथे तेकर मुंह ले अइसन बात कभू निकले नइ सकय।

बोले के घला सलीका होथे, कोन बात ला कोन करा कइसे बोले जाय? अब बहिनी करा कहूं परेमिका सही लटर पटर कहूं बात करे जाही तउन तो फभय नहीं ना, युद्ध के मैदान मं लड़े बर गे हस अउ अरजुन सही कहूं ''न कांक्षे विजयं कृष्ण" कस गोठियाय ले धर लेबे तब तो होगे ना काम, लड़ डरे लड़ई। जइसन मौका तइसन बात करे जाथे। अइसे नहीं के उत्ता-धुर्रा फलानी अइसना, फलाना वइसना, ओहर खोरी, अंधरी, डेढ़ बग्गी हे तब फलाना लफंगा, चोर, बदमाश, अउ डकैत हे।अइसन बोली- बात मं रंगझाझर नइ मातही, लड़ई-झगड़ा, खून-खराबा नइ होही तब का होही? जइसे बिना ब्रेक के गाड़ी होथे तइसने कतको झन के बोली, बात अउ जबान के कांही ठिकाना नइ राहय। जहां एक घौं मुंह खुलगे ते फेर शुरू, कब का कहि दिही, बोल दिही अइसन बन के कांही ठिकाना नइ राहय? सबके मुंह आज खुलगे हे। कोनों ला रोके छेके नइ सकय। सुनब मं आय हे के सरकार हा संसद मं नियमावली बनइया हे जेमा राजनीति, धरम, उद्योग-धंधा, शिक्षा, न्याय, समाज, परिवार अउ घर मं अइसन ढंग के बात करे मं कहूं कोनो ला नुकसान होवत हे ओकर ऊपर रोक लगाय जाही। बने हे बन जाय,फेर चले मुंह अउ चले.... ला कोन कभू रोक सके हे भला आज तक? भगवान करय, अइसन लपरहा, बड़बोला अउ अजलइत करइया मन ला सद्बुद्धि देवय, विवक देवय तभे देश अउ समाज मं शांति अउ सुख रइही।



Related News
thumb

स्वाधीनता का अमृत महोत्सव : घर-घर तिरंगा से बढ़ेगी देशप्रेम की भावना

इस वर्ष हम भारत की स्वाधीनता की 75वीं वर्षगांठ को ‘‘आजादी का अमृत महोत्सव’’ के रूप में मना रहे हैं। यह स्वाधीनता के लिए हमें जिन कठिनाईयों और मुश्क...


thumb

बात बेबाक : सहीं मायने में आजादी भ्रष्ट सिस्टम से मुक्त विकास की धा...

हमारा स्वाधीनता दिवस अपने तय समय पर 15 अगस्त को ही फिर आ रहा है। इस बार हम भारतीयों के लिए खास खुशी का माहौल है कि आजादी की 75वीं वर्षगांठ आजादी का...


thumb

मुझे बचा लो साहब, पुरातत्व विभाग की लापरवाही मुझे मार डालेगी : भोरम...

हैल्लो मंत्रीजी, मैं भोरमदेव बोल रहा हूँ, बचा लो साहब मुझे , पुरातत्व वाले मार रहे मुझे... 32.8 लाख रुपये 6 महीने पहले एडवांस लेकर भी इलाज प्रांरभ ...


thumb

बइरी बादर के ठेंगा अउ आंसू पौधा, किसान के...!

देखत हस एकर चाल ला, आहूं... आहूं... कहिके लइका मन कस भुलवारत हे, कभू टुहूं देखावत हे, कभू ठेंगा देखावत हे। एती ओकर जीव हा ताला-बेली होवत हे। अब अपन...


thumb

विश्व की पहली वैज्ञानिक भाषा 'संस्कृत'

संस्कृत दिवस श्रावण पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। छत्तीसगढ़ संस्कृत विद्यामण्डलम् द्वारा राज्य स्तर पर सप्ताह का आयोजन रक्षाबंधन के 3 दिन पूर्व और ...


thumb

मिनीमाता ने छत्तीसगढ़ को राष्ट्रीय क्षितिज पर दी नई पहचान

छत्तीसगढ़ की पहली महिला सांसद मिनीमाता बहुआयामी व्यक्तित्व की धनी थी। अपने प्रखर नेतृत्व क्षमता की बदौलत राष्ट्रीय नेताओं के बीच उनकी अलग पहचान थी। ...