गुस्से का त्याग करें, उपवास करने जितना लाभ मिलेगा : संत ललितप्रभ

Posted On:- 2022-07-17




सोमवार से व्यक्तित्व विकास सप्ताह शुरू, संत प्रवर युवाओं को देंगे जीवन में आगे बढ़ने के टिप्स

रायपुर (वीएनएस)। आउटडोर स्टेडियम बूढ़ापारा में रविवार को ‘जीने की कला ’ प्रवचनमाला के दौरान राष्ट्रसंत महोपाध्याय ललितप्रभ सागर महाराज ने ‘क्रोध का अंत : कैसे करें तुरंत’ विषय पर श्रद्धालुओं को संबोधित करते कहा कि हमें वह कार्य करना चाहिए जिसके करने से खुद को और दूसरों को भी खुशियां मिले, पर क्रोध करने से न हमें खुशी मिलती है और न ही दूसरों को। क्रोध से तनाव बढ़ता है, दिमाग भारी होता है, और हंसी खुशी से भरा माहौल भी बिगड़ जाता है।

संतप्रवर ने कहा कि स्वर्ग उनके लिए है जो अपने गुस्से को काबू में रखते हैं, स्वर्ग उनके लिए है जो दूसरों की गलतियों को माफ कर देते हैं और ईश्वर उन्हीं से प्यार करते हैं जो दयालु और करुणाशील हुआ करते हैं। ये मत कहो कि गुस्सा करने से आदमी नर्क में जाता है, जिस समय आदमी गुस्सा कर रहा होता है उस समय आदमी नर्क में ही होता है। और जब आप किसी को क्षमा कर रहे हैं तो समझो आप स्वर्ग में हैं। सावधान रहें आपका पलभर का गुस्सा आपकी पूरी जिंदगी को चौपट कर सकता है। गुस्सा हमारी हंसी की हत्या करता है, खुशी को खत्म कर देता है और हमारे भीतर की समझदारी को बाहर निकालकर स्वयं भीतर बैठ जाता है।

गुस्से के नुकसान बताते हुए संतश्री ने कहा कि भोजन करके चौबीस घंटे में आदमी जो ताकत पाता है, केवल एक बार गुस्सा करने से आदमी की वह ताकत खत्म हो जाती है। जिन रिश्तों को बनाने में बीस साल लगा करते हैं, आपका एक पल का गुस्सा उन रिश्तों पर पानी फेर देता है। जिस कॅरियर को बनाने में आदमी को दस साल लगे थे, आदमी का एक मिनट का गुस्सा उस कॅरियर को चौपट कर देता है। यह तो हम सभी जानते हैं कि क्रोध करना बुरा है, पर हम प्राय: यही कहते हैं कि क्या करें गुस्सा आ जाता है। पहली बात मैं यह बता दूं कि गुस्सा कभी भी आता नहीं है, गुस्सा किया जाता है। गुस्से को हम स्वयं पैदा करते हैं। गुस्सैल आदमी और कुत्ते में फर्क केवल इतना ही है कि कुत्ता अपरिचितों पर भौंकता है पर गुस्सैल आदमी अपने परिचितों पर भौंकना शुरू कर देता है।

गुस्सा जब भी आता है अपनी फैमिली को साथ लाता है :
संतश्री ने कहा कि गुस्सा जब भी आता है, कभी अकेला नहीं आता विथ फैमिली आता है। गुस्से के पापाजी हैं घमंडीराम और गुस्से की माता है उपेक्षा बाई। जब-जब आदमी के अंदर अहंकार-घमंड पैदा होता है, और जब-जब आदमी की अपेक्षा उपेक्षित होती है, तब-तब आदमी को गुस्सा आता है। गुस्से की बीवी का नाम है- हिंसा बाई। गुस्सा जब भी आता है तब आदमी मुस्कुराकर पेश नहीं आता, उसकी जबान कड़वी हो जाती है। कड़वे करेले को भी जब हम अच्छा जायकेदार बनाकर खाना जानते हैं तो किसी कड़वे-टेढ़े वचन को अच्छा-सीधा बनाकर हम क्यों नहीं सुन व सह सकते।  गुस्से के दो जुड़वा बच्चे भी हैं- एक नाम है बैर और दूसरे का विरोध। गुस्से की दो जुड़वा बेटियां भी हैं- एक निंदा और दूसरी चुगली। गुस्से की एक पोती भी है- थूक फजीती और गुस्से की चाची है- रिश्तों में दूरी।

अपना बड़प्पन दिखाएं, सामने वाले को माफ करें :
संतश्री ने कहा कि गुस्से का यह नियम है कि जब भी आता है नीचे वाले पर आता है और आदमी को नीचे लेकर जाता है। लड़-लड़कर, गुस्सा कर-कर के, हो-हल्ला कर के इंसान ने कभी कुछ पाया नहीं है, इंसान ने जब भी कुछ पाया है तो प्रेम से ही पाया है। तभी तो भगवान महावीर ने 2500 साल पहले मानव जाति को जीवन का यह मंत्र दिया था- मैं सभी जीवों से क्षमा मांगता हूं, सभी जीव मुझे क्षमा करें। जीवन में क्या करो कि जिससे तुम्हारे मुक्ति मार्ग खुल जाए तो, कहते हैं- क्षमा मांग लो और क्षमा कर दो। यही सबसे बड़ा मुक्ति- मंत्र है। जो महिला रात को सोने से पहले अपनी बहू की एक गलती को माफ कर देती है, सुबह उठने से पहले भगवान उसकी हजार गलतियों को माफ कर देते हैं। अगर आप दूसरों की गलतियों को माफ करेंगे तो यह तय मानकर चलना आपकी भी गलतियां माफ की जाएंगी। भयंकर विषधर सर्प चण्डकौशिक अपने पिछले जन्म में एक महातपस्वी संत हुआ करता था, लेकिन एक बार क्रोध करने के कारण वह संत भी मरकर सांप बना। जरा सोचों हमने क्रोध कर-कर के कितने जन्मों तक सांप और बिच्छू बनने की अपनी व्यवस्था कर ली है। इसीलिए अपनी आत्मा को जगाने के लिए आज से संकल्पबद्ध होइए कि मैं किसी पर क्रोध नहीं करुंगा, अपना बड़प्पन दिखाकर सामने वाले को माफ कर देंगे। जब भगवान महावीर कान में कीले ठोंकने वाले को भी माफ कर सकते हैं और भगवान श्रीकृष्ण शिशुपाल की 99 गलतियों को भी माफ कर सकते हैं, तो क्या हम किसी की एक गलती को माफ नहीं कर सकते। यदि हम अपने जीवन में स्वविवेक रखें, अपनी मानसिकता को सही कर लें तो हम अपने गुस्से को काबू कर जीवन की बाजी जीत सकते हैं।

गुस्से पर काबू पाने जीवन में इन मंत्रों को करें लागू :
संतप्रवर ने आह्वान कर कहा कि आज से नियम ले लो कि घर पर चीखना-चिल्लाना, गाली-गलौज करना बंद कर दें। जवानी में गुस्से को मंद कर दें। बुढ़ापे में गुस्सा करना बंद कर दें।  गुस्से को काबू करना चाहते हैं तो इन मंत्रों को जीवन में लागू कर लें। वे हैं- जब भी क्रोध का वातावरण बने, अपने-आपको अनुपस्थित समझें। दूसरा गुस्सा आ भी जाए तो उसे दूसरी ओर मोड़ दें। सदा मुस्कुराने की आदत डालें। चौथा- स्वयं को शांत सरोवर की भांति बना लें और पांचवा मंत्र है- नेगेटिव या नकारात्मक वातावरण को भी पॉजीटिव या सकारात्मक बनाने का प्रयास करें। छठा मंत्र है- जब भी गुस्सा आए उसे कल पर टाल दें अर्थात गुस्सा चौघड़िया देख कर ही करें। जीवन में हम बड़ी सोच के मालिक बनें। अपने स्वभाव को हमेशा सरल-सकारात्मक बनाए रखें। जब भी बोलें, प्रेम-ईज्जत और माधुर्य भरे शब्दों से बोलें, हमेशा प्रसन्न रहें-मुस्कुराते रहें।

आरंभ में संतश्री ने भावगीत ‘जिंदगी में सदा मुस्कुराते रहो, फासले कम करो दिल मिलाते रहो...’ के संगीतमयी गायन से श्रद्धालुओं को अपने क्रोध को नियंत्रित करने की प्रेरणा दी।

धर्मसभा के पूर्वार्ध में डॉ. मुनिश्री शांतिप्रिय सागरजी महाराज ने श्रद्धालुओं को जीवन में उत्पन्न होने वाली परिस्थितियों का सामना धैर्यता, शांतचित्तता से करने की प्रेरणा दी। उन्होंने कहा- दुनिया में ऐसा कोई भी नहीं जिसके जीवन में समस्याएं न हों, किंतु यह भी तय बात है कि दुनिया में ऐसी कोई समस्या भी नहीं, जिसका समाधान न हो।

आज के अतिथिगण :
रविवार की विशाल दिव्य सत्संग सभा का शुभारंभ अतिथिगण कमलेश सुजतियार, तिलोक पारख, अन्नाराज पारख, पृथ्वीराज पंकज तालेड़ा, डॉ. अर्पण चतुर्मुथा, डॉ. यशवंत जैन, डॉ. सुशील जैन, राज बोथरा, श्रीऋषभदेव मंदिर ट्रस्ट के कार्यकारी अध्यक्ष अभय भंसाली, हीरानंद जगवानी, मदन तालेड़ा, दिव्य चातुर्मास समिति के अध्यक्ष तिलोकचंद बरड़िया व तुमड़ीबोड़ से आए श्रावक गणों ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। सभी अतिथियों को श्रद्धेय संतश्री के हस्ते ज्ञान पुष्प स्वरूप धार्मिक साहित्य भेंट किया गया।

प्रवचन से पूर्व जीतो चेप्टर महिला मंडल द्वारा गुरुभक्ति से ओतप्रोत मधुर गीत ‘गुरुवाणी से मिला हमें ज्ञान, प्रभु का जैसे साथ मिला...’ की सामूहिक प्रस्तुति दी।  सूचना सत्र का संचालन चातुर्मास समिति के महासचिव पारस पारख ने किया।

मुख्यमंत्री व महापौर ने लिया प्रवचन व संत दर्शन का लाभ, राष्ट्रसंत चंद्रप्रभजी रचित कैलेंडर का हुआ विमोचन :
आज धर्मसभा में प्रवचन श्रवण व संतश्री से आशीर्वाद लाभ प्राप्त करने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल एवं महापौर एजाज ढेबर का आगमन हुआ, जिनका चातुर्मास समिति की ओर आत्मीय अभिनंदन किया गया। इस प्रसंग पर मुख्यमंत्री श्री बघेल के हाथों राष्ट्र संत चंद्रप्रभ सागरजी महाराज रचित नये कैलेंडर ‘हैप्पी थॉट्स’ का विमोचन किया गया। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने अपने संबोधन में राष्ट्रसंतों के रायपुर आगमन को छत्तीसगढ़वासियों का सौभाग्य निरूपित करते हुए कृतज्ञता व्यक्त की।

सोमवार का प्रवचन ‘कैसे बनें करिश्माई व्यक्तित्व के मालिक’ विषय पर :
श्रीऋषभदेव मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष विजय कांकरिया, कार्यकारी अध्यक्ष अभय भंसाली, ट्रस्टीगण राजेंद्र गोलछा व उज्जवल झाबक, दिव्य चातुर्मास समिति के अध्यक्ष तिलोकचंद बरड़िया, महासचिव पारस पारख, प्रशांत तालेड़ा, अमित मुणोत ने संयुक्त जानकारी देते बताया कि जीने की कला के अंतर्गत सोमवार 18 जुलाई से युवाओं के लिए व्यक्तित्व विकास सप्ताह प्रारंभ होगा, जिसमें संत प्रवर युवाओं को जीवन में आगे बढ़ने के टिप्स सिखाएंगे इसके तहत सोमवार को सुबह 8:45 बजे से ‘कैसे बनें करिश्माई व्यक्तित्व के मालिक’ विषय पर प्रवचन होगा। श्रीऋषभदेव मंदिर ट्रस्ट एवं दिव्य चातुर्मास समिति ने छत्तीसगढ़ के समस्त श्रद्धालुओं को चातुर्मास के सभी कार्यक्रमों व प्रवचन माला में भाग लेने का अनुरोध किया है।



Related News
thumb

मुख्यमंत्री से अग्रवाल समाज दुर्ग के प्रतिनिधिमंडल ने की सौजन्य मुल...

मुख्यमंत्री से आज उनके निवास कार्यालय में अग्रवाल समाज दुर्ग के प्रतिनिधिमंडल ने सौजन्य मुलाकात की। प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री को समाज द्वारा आयो...


thumb

गौठान की महिलाएं बना रही फाईल-फोल्डर, कॉन्फ्रेंस-लेपटॉप बैग, पर्दा

इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय द्वारा रायपुर में 16 एवं 17 अगस्त को आयोजित देशभर के कृषि वैज्ञानिकों की कार्यशाला में केला तना रेशा से बना कान्फ्र...


thumb

मुख्यमंत्री शिक्षा गौरव अलंकरण : शिक्षा दूत, ज्ञान दीप और शिक्षाश्र...

मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुसार प्रतिवर्ष 5 सितम्बर को विकासखण्ड स्तर, जिला स्तर और संभाग स्तर पर ‘मुख्यमंत्री गौरव अलंकरण’ योजना के अंतर्गत शिक्षको...


thumb

कोरोना बुलेटिन : प्रदेश में 285 नए मामले, रायपुर से 28

स्वास्थ्य विभाग से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार 16 अगस्त की स्थिति में प्रदेश की पाॅजिटिविटी दर 2.91 प्रतिशत है। आज प्रदेश भर में हुए 9 हजार 791 सैंपलो...


thumb

साइबर अपराधों के प्रति सतर्क करने राजधानी पुलिस ने शुरू किया 'सुनो ...

आम नागरिकों और युवाओं को साइबर अपराधों के प्रति सतर्क करने रायपुर पुलिस ने 'सुनो रायपुर' जागरूकता अभियान की शुरुवात की। 7 दिन तक चलने वाला यह अभिया...


thumb

महिला आयोग की पहल पर बालोद पुलिस ने शिक्षक को हिरासत में लिया

राज्य महिला आयोग द्वारा 1 प्रकरण को स्वतः संज्ञान में लेते हुए एफआईआर दर्ज कर अपराधी को हिरासत में रखा गया है। बालोद जिले के एक स्कूल का था जिसमे आ...