लंबे समय से बाधित स्वास्थ्य सेवाओं को पुनः सुचारू करने पर जोर

Posted On:- 2022-07-28




कवर्धा (वीएनएस)।  लोगों को सहजतापूर्वक स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के लिए जिले में लगातार प्रयास किया जा रहा है। विशेषकर दूरस्थ वनांचल के उप स्वास्थ्य केंद्रों में लंबे समय से बाधित स्वास्थ्य सेवाओं को शिविर लगाकर तथा स्टॉफ भेजकर पुनः सुचारू किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग की टीम स्वास्थ्य सेवा तुहंर दुआरी के माध्यम से भी गांव-गांव पहुंच रही है, जिससे लोग अब राहत की सांस ले रहे हैं।

गांव में शिविर लगाकर तथा स्टॉफ भेजकर कार्य शुरू करना हो, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में सिजेरियन प्रसव की व्यवस्था हो या जिला अस्पताल में सेवाओं में बढ़ोत्तरी हो, हर जगह स्टॉफ तथा भौतिक संसाधनों की व्यवस्था कर स्वास्थ्य सेवाओं को गति प्रदान की जा रही है। शासन की ओर से जिले में सेकंड एएनएम पद की भी व्यवस्था कर दी गई है। इसका उद्देश्य दूरस्थ पहुंचविहीन क्षेत्रों में स्टॉफ की व्यवस्था कर लोगों को आवश्यक जांच, उपचार व परामर्श की सेवा प्रदान करना है। इसके अलावा जिला अस्पताल में विशेषज्ञ चिकित्सकों व जिले भर में मेडिकल ऑफिसर्स की भर्ती की गई है, ताकि जिले में ही उच्च उपचार सुविधा भी उपलब्ध हो सके।

इस संबंध में पंडरिया के नवपदस्थ खंड चिकित्सा अधिकारी (बीएमओ) डॉ. स्वप्निल तिवारी ने बतायाः लोगों तक आसानी से स्वास्थ्य सेवाएं पहुंचाने की कवायद रंग लाने लगी है। भौगोलिक बाधाओं के बावजूद लोगों को स्वास्थ्य सेवा आसानी से व त्वरित रूप से मुहैया कराने के लिए किए जा रहे प्रयासों में स्वास्थ्य विभाग को बेहतर सफलता मिल रही है। स्वास्थ्य सेवा तुहंर दुआरी को चरितार्थ करने के लिए सीएमएचओ डॉ. मुखर्जी के मार्गदर्शन में जिले भर के चिन्हांकित पहुंचविहीन गांवों में स्वास्थ्य शिविर लगाकर लोगों को मौसमी बीमारियों से बचाने का प्रयास किया जा रहा है। वहीं सेंदुरखार में सेकंड एएनएम के द्वारा हफ्ते भर में 3 सफल प्रसव करवाया जा चुका है।

संस्थागत प्रसव को बढ़ावा मिलेगा  सरपंच

विकासखंड सहसपुर लोहारा के धरमगढ़ और पंडरिया के सेंदुरखार, भाखुर आदि उपस्वास्थ्य केंद्रों में भी काफी सकारात्मक बदलाव किया गया है। ग्रामीण लंबे समय से इन केंद्रों के लिए स्टॉफ की मांग कर रहे थेए जिसके परिणामस्वरूप स्टॉफ की व्यवस्था की गई है। स्वास्थ्य सेवा में सुधार होने से उत्साहित अमनिया के सरपंच रतिराम भट्ट ने बतायाः भाखुर में स्टॉफ की व्यवस्था हो जाने से अब संस्थागत प्रसव को बढ़ावा मिलेगा। लगभग 4 वर्षों के बाद उपस्वास्थ्य केंद्र में प्रसव शुरू किया गया है। इससे पहले असामान्य स्थिति में स्वास्थ्य सेवाओं के लिए क्षेत्र के लोगों को कुकदूर जाना पड़ता था, लेकिन अब हालात बदल गए हैं और भाखुर में ही प्राथमिक सेवाएं मिल रही हैं।



Related News
thumb

खरीफ फसलों का बीमा कराने की अंतिम तिथि 31 जुलाई

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना मौसम खरीफ वर्ष 2024 के क्रियान्वयन हेतु फसल बीमा कराने की अंतिम तिथि 31 जुलाई 2024 निर्धारित की गई हैं। योजना में धान स...


thumb

स्पोकन इंग्लिश का पांच दिवसीय प्रशिक्षण शुरू

जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान धरमजयगढ़ तथा राज्य कार्यालय के निर्देशानुसार विकासखंड रायगढ़ की 205 प्राथमिक शालाओं के 100 शिक्षकों को स्पोकन इंग...


thumb

एक पेड़ मां के नाम : बच्चों ने किया वृक्षारोपण

स्कूली बच्चों को पर्यावरण संरक्षण से जोड़ने के लिए माध्यमिक शाला पतरापाली के विद्यालय परिसर में "एक पेड़ मां के नाम" अभियान के तहत बच्चों, शिक्षको...


thumb

विवादों को आगे बढ़ाने की बजाय सुलझाने का हो प्रयास : न्यायाधिपति गौत...

न्यायाधिपति गौतम भादुड़ी, न्यायाधीश, छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय बिलासपुर और कार्यपालक अध्यक्ष, छत्तीसगढ़ राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण बिलासपुर ने कोरबा में...


thumb

बी.एस.सी. नर्सिंग प्रवेश परीक्षा आज

छत्तीसगढ़ व्यावसायिक परीक्षा मण्डल द्वारा रविवार 14 जुलाई 2024 को बी.एस.सी. नर्सिंग (B.Sc.N.) प्रवेश परीक्षा का आयोजन प्रदेश के 32 जिला मुख्यालयों म...


thumb

मुख्य न्यायाधिपति रमेश सिन्हा नेे नेशनल लोक अदालत के अवसर पर राज्य ...

छत्तीसगढ़ राज्य में आज द्वितीय नेशनल लोक अदालत का आयोजन किया गया। इस अवसर पर न्यायमूर्ति रमेश सिन्हा, मुख्य न्यायाधिपति छत्तीसगढ उच्च न्यायालय-सह- ...