बाबा भोरमदेव मंदिर में हजारों कावरियों ने किया जलाभिषेक

Posted On:- 2022-08-01




कवर्धा (वीएनएस)। पवित्र श्रावण माह का कल तीसरा सोमवार है। बीते इस पूरे माह में छत्तीसगढ़ के कबीरधाम जिले से लेकर मध्यप्रदेश की अमरकंटक तक बोल-बम और हर-हर महादेव का गुंजायमान होने लगा है। ऐसी ही नजारा पड़ोंसी जिले बेमेतरा, मुंगेली और राजानांदगांव के सरहदी क्षेत्रों से आने वाले पदयात्रियों और कांवड़ियो में उत्साह और उमंग देखने को मिल रहा है।

हालांकि पड़ोंसी जिलों की तुलना में इस बार अमरकंटक से मां नर्मदा की जल लाने वाले कांवड़ियों की संख्या में काफी इजाफा हुआ है। कांवड़ियो की बढ़ती संख्या को देखते हुए कबीरधाम जिला प्रशासन द्वारा कांवडियों की मूलभूत सुविधाओं, जैसे उनके ठहरने की व्यवस्था, उनके प्राथमिक स्वास्थ्य की व्यवस्था सहित अन्य मूलभूत सुविधाओं में भी विस्तार किया जा रहा है।

कलेक्टर के निर्देशानुसार अमरकंटक से पहाड़ी और पथरिली जंगलों की रास्तों से कबीरधाम जिले में प्रवेश करने वाले सभी कावड़ियों को प्राथमिक स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराई जा रही है। कबीरधाम जिले के प्रवेश द्वार कहे जाने वाले हनुमंतखोल के पास कांवड़ियो के उपचार की बेहतर व्यवस्था कराई जा रही है। यहां चिकित्सक से लेकर स्टॉप नर्स और ड्रेसर्स कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है। इसी प्रकार कांवड़ियो को ठहराने के लिए कुकूदूर विश्राम गृह परिसर में उचित व्यवस्था की गई, यहां भी चिकित्सको की टीम को तैनात किया गया है। अमरकंटक से लेकर भोरमदेव पहुंच मार्ग पर अलग-अलग 7 से 8 स्थानों पर स्वास्थ्य शिविर लगाकर कांवड़ियों को पांव के छालों में आवश्यकतानुसार पट्टी लगाई जा रही तो वही उनके कांवड़ियों के पैरों में होने वाले मोच व अकड़न को ठीक करने के लिए स्प्रे की व्यवस्था बनाई गई है। स्वास्थ्य टीम द्वारा कॉवडियों का हौसला बढ़ाते हुए यह भी कहा जा रहा है कि आगे बढ़ते जाओं तूम मत देखों अपने पैर के छालों को।

मुख्य चिकित्सा एवं जिला अधिकारी डॉक्टर सुजॉय मुखर्जी ने बताया कि अब तक स्वास्थ्य विभाग द्वारा 300 से अधिक कांविड़यों को प्राथमिक स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराई गई है। कांवड़ियो के पैरो में होने वाले छालों के उपचार से लेकर कोविड जांच परीक्षण की सुविधा भी देने में टीम लगी हुई है। इसके अलावा कवर्धा के ऐतिहासिक भोरमदेव मंदिर के सपीम 6 अलग-अलग समाजिक भवन व विशेष वाटर फ्रुप टेंट लगाकर विश्राम शिविर बनाई गई है। श्रद्धालु और कावरियों को मूलभूत सुविधाएं देने के लिए जिला प्रशासन के पूरा अमला, कोटवार से लेकर प्रशासनिक अधिकारी, नगरीय निकायों के अमले और अन्य सुविधाएं सहित पुलिस के जवान सुरक्षा और यातायात व्यवस्था बनाने में लगे हुए है।



Related News
thumb

फूड प्वॉईजनिंग से नहीं, विषैले जीव के काटने से गई थी 3 लोगों की जान...

जिले के महाराणा प्रताप चौक स्थित सर्कस मैदान में लगे डिज्नीलैंड मेले में व्यापार करने आए तीन लोगों के मौत के मामले में नया खुलासा हुआ है। जांच के द...


thumb

दूसरे की जमीन को अपनी बताकर बेचा: तहसीलदार, डिप्टी रजिस्ट्रार, पटवा...

चांपा थाना क्षेत्र में एक संगठित आपराधिक षडयंत्र का खुलासा हुआ है, जिसमें हमनाम व्यक्ति को निजी जमीन का मालिक बताकर जमीन बिक्री की गई। इस मामले में...


thumb

किसान की बाड़ी में मिला मादा तेंदुए का शव, जांच में जुटा वन विभाग

दुगली वन परिक्षेत्र में एक किसान की बाड़ी में मादा तेंदुए का शव मिला है। तेंदुए की उम्र लगभग 3 वर्ष बताई जा रही है। ग्रामीणों की सूचना पर वन विभाग क...


thumb

कॉम्पटीशन की दुनिया में आगे बढ़ने का एकमात्र विकल्प शिक्षा की सीढ़ी...

युवाओं में जीवनोपयोगी संस्कारों का बीजारोपण करने एवं कैरियर संबंधी संभावनाओं को उजागर करने दिगंबर जैन समाज पंचायत सेवा समिति के तत्वावधान में आरंभ ...


thumb

डाक मतपत्रों की गिनती रिटर्निंग अधिकारियों के मुख्यालय जिलों में होगी

लोकसभा आम निर्वाचन-2024 के अंतर्गत मतगणना 4 जून को की जाएगी। मतगणना के दौरान ईवीएम में दर्ज वोटों के साथ ही डाक मतपत्रों की भी गणना की जाएगी। डाक म...


thumb

नक्सलियों के बंद को बीजापुर के जनमानस ने सिरे से नकारा

प्रतिबंधित माओवादी संगठन ने 26 मई को बंद का आह्वान किया था, जिसका असर बीजापुर जिले में नहीं पड़ा। जिले के नागरिकोंम व्यापारियों ने स्वस्फूर्त अपनी द...