गोबर पेंट में ढूंढा रोजगार का रास्ता, महिलाओं और युवाओं को मिली आर्थिक सुदृढ़ता

Posted On:- 2023-06-02




दंतेवाड़ा (वीएनएस)। पहले किसी ने कल्पना भी नहीं की थी एक दिन ऐसा भी आएगा कि गोबर और उससे निर्मित उत्पाद महिलाओं और युवाओं के लिए कमाई का जरिया बनकर उन्हें स्वावलंबी बनाएंगे। गोबर से खाद निर्माण की प्रक्रिया यूं तो ग्रामीण क्षेत्रों में सदैव ही प्रचलित रही है और उसे अब गौठानों में परिष्कृत करके वर्मी कम्पोस्ट के रूप में तैयार किया जा रहा है। परंतु खाद के अलावा भी गोबर से निर्मित अन्य बहुउपयोगी सामग्री भी बनाई जा रही है। इनमें गोबर पेंट बनाये जाना नवाचार की श्रेणी में आएगा। वर्तमान में तो लगभग हर दूसरे गौठानों में महिला समूहों की ओर से अब गोबर से निर्मित पेंट बनाए जा रहे है। जिनका उपयोग शासकीय कार्यालयों, भवनों में किया जा रहा है। साथ ही स्थानीय बाजार में भी अब उपलब्ध कराये जा रहे है।


इस क्रम में ब्लॉक दंतेवाड़ा स्थित ग्राम भैरमबंद के मल्टी एक्टिविटी सेंटर में भी गोबर पेंट यूनिट स्थापित कर दिया गया है। यहां युवा मितान व महिलाओं के द्वारा मॉ दंतेश्वरी प्राकृतिक गोबर पेंट उत्पादक समूह बनाकर गोबर पेंट का निर्माण किया जा रहा है। समूह की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक समूह द्वार निर्मित पेंट का निर्माण प्राकृतिक रूप से किया जाता है। जिसकी सभी शासकीय विभागों स्थानीय दुकानों और अन्य जगहों में बिक्री की जा रही है। इस प्रकार उक्त समूह की ओर से अब तक 65 सौ लीटर पेंट उत्पादन कर 14 लाख 25 हजार रुपए की बिक्री की जा चुकी है। जिसमें समूह की ओर से 2 लाख 92 हजार 500 रुपए का शुद्ध लाभ कमाया गया है। 

समूह के सदस्यों ने यह भी बताया कि गोबर की पेंट का डिमांड हर जगह से आ रही है और लगभग 36 हजार लीटर की डिमांड पूरे जिले से है। इसी समूह से जुड़े युवा मितान श्यामलाल यादव बताते है कि समूह में जुडऩे से पहले वे खेती किसानी में ही गुजर बसर ही करते थे और आय भी साधारण ही रहती थी। कक्षा 12वीं तक पढ़े श्यामलाल ने बाद में मल्टी एक्टिविटी सेंटर से जुड़कर गोबर पेंट निर्माण की प्रक्रिया सीखनी चाही फिर समूह के माध्यम से उसे राजस्थान के जयपुर गोबर पेंट निर्माण प्रशिक्षण हेतु भेजा गया। वापस आकर श्यामलाल ने समूह के साथियों की मदद से गोबर पेंट निर्माण कार्य की शुरूआत की। श्यामलाल ने आगे बताया कि जिला प्रशासन के द्वारा भी उन्हें हर संभव मदद उपलब्ध करायी गई। और विभिन्न सरकारी विभागों से उन्हें पेंट के लिए मांग पत्र प्राप्त हो रहें है, और गोबर पेंट की एन्टीबैक्टीरिया, एन्टीफंगल, इकोफ्रेन्डली, नेचुरल थर्मल इन्सुलेटर, कास्ट इफेक्टिव व नान ऑक्सिक विशेषताओं को देखते हुए आने वाले दिनों में इसकी भारी मांग की संभावनाएं है और इस मांग की पूर्ति के लिए उनका समूह पूरी तरह से तैयार है।

राज्य शासन की ओर से स्थापित किये गए रीपा व गौठान के माध्यम से आज ग्रामीण क्षेत्रों में आ रहे सकारात्मक बदलाव से कोई भी इंकार नहीं कर सकता शासन की इस सार्थक पहल ने ग्रामीण अर्थव्यवस्था को गति देकर निश्चित ही एक मुकाम तक पहुंचाया है।




Related News
thumb

वेल्डिंग मशीन में करंट लगने से किसान की मौत

हल जोतने वाली नागर में वेल्डिंग करते समय करंट की चपेट में आकर किसान की मौत हो गई। घटना कोतबा चौकी क्षेत्र के कोतबा नगर पंचायत के वार्ड संख्या 14 स...


thumb

कार्य में लापरवाही बरतने वाली अधीक्षिका को कलेक्टर ने किया निलंबित

। कलेक्टर नीलेश कुमार क्षीरसागर ने गंभीर प्रवृत्ति के शिकायत की खबर पर संज्ञान लेते हुए विनिता कुजूर, मूल पद व्याख्याता एल.बी., शासकीय उमावि छोटेबे...


thumb

छोटेबेठिया घटना की जांच के लिए टीम गठित

कलेक्टर नीलेश कुमार क्षीरसागर द्वारा कोयलीबेड़ा विकासखंड के कन्या आवासीय विद्यालय छोटेबेठिया की घटना की जांच हेतु पखांजुर एस.डी.एम. अंजोर सिंह पैक...


thumb

खरीफ फसलों का बीमा कराने की अंतिम तिथि 31 जुलाई

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना मौसम खरीफ वर्ष 2024 के क्रियान्वयन हेतु फसल बीमा कराने की अंतिम तिथि 31 जुलाई 2024 निर्धारित की गई हैं। योजना में धान स...


thumb

स्पोकन इंग्लिश का पांच दिवसीय प्रशिक्षण शुरू

जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान धरमजयगढ़ तथा राज्य कार्यालय के निर्देशानुसार विकासखंड रायगढ़ की 205 प्राथमिक शालाओं के 100 शिक्षकों को स्पोकन इंग...


thumb

एक पेड़ मां के नाम : बच्चों ने किया वृक्षारोपण

स्कूली बच्चों को पर्यावरण संरक्षण से जोड़ने के लिए माध्यमिक शाला पतरापाली के विद्यालय परिसर में "एक पेड़ मां के नाम" अभियान के तहत बच्चों, शिक्षको...