शांति चाहते हो तो सुनाने के साथ सुनने का भी सामर्थ्य लाओ : आचार्य विशुद्ध सागर

Posted On:- 2022-07-15




रायपुर (वीएनएस)। विशुद्ध वर्षा योग 2022 में शुक्रवार को आचार्य विशुद्ध सागर महाराज ने कहा कि मात्र हम सुनना जानते हैं इसलिए झगड़ा होता है। जो तुम सुना रहे हो इतना ही नहीं है, इसके आगे भी सुनिए। घर,समाज, राज्य और राष्ट्र में शांति चाहते हो तो सुनाने के साथ सुनने का भी सामर्थ्य लाओ। नय प्रमाण का अंश होता है। प्रमाण से ग्रहित अर्थ के अंश को जो कहता है उसका नाम नय हैं। जो नय की व्याख्या नहीं करते इसलिए आपस में लड़ते हैं।

आचार्य श्री ने कहा कि ज्येष्ठों के सामने,पूज्यों के सामने पूजा की जाती है पूज्यपना दिखाया नहीं जाता। जब किसी बड़े गुरु से मैं मिलता हूं तो मौन बैठ जाता हूं। जो मैं जानता हूं वह मेरा तो है ही लेकिन जब आप गुरु के समीप हो तो उनका  खींच लो अपना खर्च मत करों। उनसे जितना जितना ले सकते हो ले लो,सुनाना ही नहीं सुनना भी सीखों।

शब्द और ज्ञान के अभाव में अर्थ का अनर्थ जीव करता है। विशाल बुद्धि से सोचने से काम नहीं चलेगा,सूक्ष्म बुद्धि को भी प्रवेश दिलाओगे तो तत्व का बोध होगा। विशाल बुद्धि से तत्व को जान जाओगे। सूक्ष्म बुद्धि से तत्व का निर्णय होगा। प्रमाण विशाल बुद्धि है,नय छोटी बुद्धि है।

आचार्य श्री ने कहा कि कमरे में बैठकर बातें सुनना बुद्धि को भ्रष्ट करना होता है। कुछ लोग कमरे में बैठाकर ही बातें करते हैं। चार आदमी जब आपको घेरते हैं,कमरे में बैठाकर कंधे में हाथ रख कर बातें करते हैं,समझ लेना तुम्हारी बुद्धि भ्रष्ट होने का समय आ गया है। बंधन में पड़ने से विशालता नष्ट हो जाती है। यदि आप को सुरक्षित रहना हो तो कोई हाथ पकड़ कर कंधे में हाथ रखकर बात करें, तुम समझ लेना फंसने वाले हो।

आचार्य श्री ने कहा कि कभी-कभी संज्ञाओं से भी समझ में नहीं आता है। संज्ञा अर्थात नाम। एक संज्ञा के 4 लोग बैठे हैं तो विशेषण लगाना पड़ता है। संज्ञा नहीं दी और विशेषण जोड़ दिया तो संशय होगा। संज्ञा का प्रयोग नहीं करोगे तो विशेषण काम नहीं आएंगे। शब्द और ज्ञान के अभाव में अर्थ का अनर्थ जीव करता है।

मुनिश्री प्रणेय सागर ने कहा कि हमने जैसे कर्म किए हैं हमें उनके विपकों को झेलना पड़ेगा। आज तुम जो प्रति क्षण कर रहे हो,अपने कर्मों का बंध कर रहे हो। पता कैसे चले जो कर रहे हो सत्य है या असत्य। उससे पुण्य का बंध होगा या पाप का। मार्ग कौन सा सही है कौन सा गलत है। इसके लिए पहले अपने आप को जानें। जीवन में लक्ष्य होना चाहिए,यदि है तो आप उसे प्राप्त कर सकते हो,यदि नहीं है तो जीवन में कहां जाओगे। यहां आए हो तो प्रवचन सुनने से पापों का गलन होगा। दूर-दूर से लोग यहां आए हैं पापों का गलन करने ही आए हैं।

मंच संचालक अरविंद जैन वह दिनेश काला ने बताया कि आज सर्वप्रथम मंगलाचरण पीयूष ने किया। इसके बाद दीप प्रज्वलन सुभाष चंद्र,नीरज पुजारी भिंड, अनिल पहाड़े हैदराबाद,पंडित प्रमोद हैदराबाद,अक्षय हैदराबाद, नाथूलाल अहमदाबाद, नरेश दिल्ली, मनीष अहमदाबाद,ज्ञानचंद्र भिलाई, नरेश पाटनी रायपुर ने किया। कार्यक्रम के अंत मे जिनवाणी मां की स्तुति की गई। अर्घ्य समर्पण दिल्ली, हैदराबाद, गया ,इंदौर ,भोपाल ,भिंड, अहमदाबाद ,भिलाई ,दुर्ग,उज्जैन से आए सभी गुरु भक्तों सहित सकल दिगंबर जैन समाज रायपुर से उपस्थित गुरु भक्तों ने किया।



Related News
thumb

स्वच्छता दीदियों के माध्यम से ग्राम पंचायतों में हो रहा कचरा कलेक्शन

कलेक्टर विनय कुमार लंगेह और जिला पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ. आशुतोष चतुर्वेदी के मार्गदर्शन में स्वच्छता दीदियों को कचरा कलेक्शन के बारे में...


thumb

बलौदाबाजार हिंसा में 12 करोड़ का नुकसान, कलेक्टर-एसपी ने दी जानकारी

बलौदाबाजार कलेक्टर दीपक सोनी एवं पुलिस अधीक्षक विजय अग्रवाल ने सोमवार को संयुक्त जिला कार्यालय के सभाकक्ष में संयुक्त रुप से प्रेस को संबोधित किया।...


thumb

कलेक्टर ने जनदर्शन में सुनी आमजनों की समस्याएं

कलेक्टर बिपिन मांझी ने जिला कार्यालय के सभा कक्ष में आयोजित साप्ताहिक जनदर्शन कार्यक्रम में जिले के विभिन्न गांवो से पहुंचे लोगों से मुलाकात किया। ...


thumb

कांकेर में प्लेसमेंट कैम्प 28 को

जिला रोजगार एवं स्वरोजगार मार्गदर्शन केन्द्र कांकेर में 28 जून को सुबह 11 बजे से दोपहर 03 बजे तक एक दिवसीय प्लेसमेंट कैम्प का आयोजन किया जाएगा, जिस...


thumb

सिकलसेल एनीमिया उन्मूलन कार्यक्रम की प्रगति जानने केन्द्रीय सचिव ने...

जनजातीय कार्य मंत्रालय भारत सरकार की सचिव के द्वारा सिकलसेल एनीमिया के उन्मूलन एवं नियंत्रण कार्यक्रम के क्रियान्वयन की जानकारी लेने वीडियो कॉन्फ्र...


thumb

सीएम साय ने स्वच्छता दीदियों के साथ किया भोजन

महारानी दुर्गावती के बलिदान दिवस पर आयोजित पर विचार गोष्ठी में मुख्यमंत्री विष्णु देव साय ने स्वच्छता दीदियों के साथ पत्तों से बनी पतरी और दोने पर ...