सेग्रीगेशन यार्ड में किया जाएगा सूखा और गीला कचरा अलग

Posted On:- 2024-07-10




समूह की महिलाएं की महिलाएं दे रही स्वच्छता का संदेश

धमतरी (वीएनएस)। कुरुद विकासखंड के ग्राम पंचायत जरवायडीह के आश्रित ग्राम खपरी में एस.एस.जी.शेड सेग्रीगेशन यार्ड का निर्माण किया गया है। यह निर्माण कार्य महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना अंतर्गत एवं स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के तहत किया गया है। वित्तीय वर्ष 2022-23 में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के तहत राशि 4.28 लाख, 15 वे वित्त  के तहत 0.40 लाख एवं स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के तहत राशि 0.55 लाख अभिसरण से किया गया है। गांव की  स्व सहायता समूह की महिलाएं इन कार्यों में जुड़ी हुई है। ये महिलाएं कचरा को अलग-अलग श्रेणियों में विभाजित करेंगे।

कचरे को अलग-अलग श्रेणियों में बाँटने की प्रक्रिया में उसे अलग-अलग श्रेणियों में बाँटना शामिल है। कचरे की श्रेणियाँ कचरे की विशेषताओं पर आधारित होती हैं। कचरे को उचित तरीके से अलग करने के लिए कचरे के प्रकार की सही पहचान करना ज़रूरी है।

सीईओ जिला पंचायत रोमा श्रीवास्तव ने सेग्रीगेशन यार्ड (ठोस अपशिष्ट प्रबंधन) के बारे में बताया कि-जिले में सेग्रीगेशन यार्ड के 241कार्य के लिए 09 करोड़ 80 लाख 16 हजार रुपए की स्वीकृति दी गई है। स्वच्छता की दृष्टि से समूह की महिलाओं को कार्य दी गई है। इस संबंध में उन्हें उचित मार्गदर्शन भी दिया गया है। कचरे को डंपिंग या संग्रह के बिंदु पर उसकी श्रेणी में रखा जाता है। उनके जैविक, भौतिक और रासायनिक गुणों के आधार पर, कचरे को कई श्रेणियों में वर्गीकृत किया जाता है। समूह की महिलाएं गीला कचरा, सूखा कचरा को अलग- अलग करके आमदनी का जरिया ढूंढते हैं। गीला कचरा के अंतर्गत बायोडिग्रेडेबल जैविक कचरे को संदर्भित करता है। खाद्य पदार्थ, गंदे खाद्य रैपर, स्वच्छता उत्पाद, यार्ड अपशिष्ट, कागज तौलिए हैं।इसी तरह सुखा कचरा जैसे-कागज, कपड़े, प्लास्टिक, लकड़ी, कांच, आदि। सैनिटरी अपशिष्ट के तहत इस्तेमाल किए गए डायपर, सैनिटरी टॉवल या नैपकिन, ई-कचरा के रूप में फेंके गए विद्युत या इलेक्ट्रॉनिक उपकरण शामिल हैं। कंप्यूटर, टेलीविजन, वीसीआर, स्टीरियो, कॉपियर ये सब इनके अंतर्गत आते हैं।

ग्राम पंचायत सरपंच श्रीमती बिमला देवदास ने बताया कि-जिला कार्यालय के निर्देशानुसार ग्राम पंचायत में बढ़ते कचरे के उत्पादन के बारे में समूह की महिलाओं द्वारा ग्रामीणों को जागरूक किया जा रहा है  और उचित कचरा प्रबंधन के महत्व पर भी जोर दे रहे हैं। पंचायत के आश्रित ग्राम खपरी में एस.एच.जी.शेड सेग्रीगेशन यार्ड का निर्माण किया गया है। समूह से जुड़ी महिलाएं कचरा कलेक्शन कर स्वच्छता का संदेश दे रही हैं। वो कहती हैं कुड़े कचरे का हो निपटान, तभी बनेगा देश महान। गाड़ी वाला आया घर से कचरा निकाल।



Related News
thumb

एकलव्य बालक आवासीय विद्यालय के शिक्षकों की कलेक्टर ने ली बैठक, अच्छ...

कलेक्टर विलास भोसकर सोमवार को मैनपाट के एकलव्य बालक आवासीय विद्यालय निरीक्षण पर पहुंचे और शिक्षकों की बैठक ली। बैठक में उन्होंने शिक्षकों द्वारा बच...


thumb

मैनपाट के सुदूर क्षेत्रों में नदी पार कर पैदल ही चलकर कलेक्टर ने दे...

कलेक्टर विलास भोसकर शिक्षा सत्र 2024-25 के लिए स्कूल खुलने के साथ ही शिक्षा की गुणवत्ता का जायजा लेने जिले के अलग-अलग स्कूलों का लगातार निरीक्षण कर...


thumb

जिले को नशा मुक्त करने सभी विभाग मिलकर करें कार्य : कलेक्टर

आज समय सीमा की बैठक कलेक्ट्रेट सभा कक्ष में रखी गई थी। जिसमें कलेक्टर रोहित व्यास ने जिले में संचालित सभी योजनाओं की विभागवार जानकारी प्राप्त की और...


thumb

शिक्षक, शिक्षिकाओं व प्राचार्य को जिला शिक्षा अधिकारी ने जारी किया ...

आज समर्थ सूरजपुर के जिला कोर कमेटी के सदस्यों द्वारा खोड उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में आकस्मिक निरीक्षण किया गया। इस दौरान कई शिक्षक हस्ताक्षर करने ...


thumb

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ दिलाने हुआ शिविर

कलेक्टर रोहित व्यास के निर्देशन व जिला पंचायत सीईओ कमलेश नंदिनी साहू के मार्गदर्शन में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना अंतर्गत ई-केवाईसी, आधार...


thumb

विद्यालय में मनाया गया गुरु पूर्णिमा, छात्रों ने शिक्षकों के पैर छू...

कलेक्टर रोहित व्यास के निर्देशन व जिला शिक्षा अधिकारी राम ललित पटेल के आदेशानुसार विकासखंड रामानुजनगर के बीईओ पंडित भारद्वाज के मार्गदर्शन में आज म...